गुरुवार, 4 सितंबर 2008

ज्योतिषी का विवादास्पद सामाजिक महत्व

ज्योतिषी महामानव या भगवान का अवतार नहीं

हर जिले में अनिवार्यत: एक जिलाधीश होता है , किन्तु कई जिलों में भटकने के बाद भी एक सही ज्योतिषी से भेंट नहीं हो पाती , ऐसा लोगों का मानना है। इस विरलता का यह अर्थ कदापि नहीं कि ज्योतिषी कोई महामानव या भगवान का अवतार होता है , जैसा कि लोग सोंचते हैं और ज्योतिषी से बहुत अधिक अपेक्षा करते हैं। वे समझते हैं कि ज्योतिषी को न सिर्फ सभी बातों की जानकारी होती है , वरन् वे सभी जटिलताओं का इलाज भी कर सकते हैं। लेकिन वास्तव में ऐसी कोई बात नहीं होती। मै यह स्वीकार करता हूं कि भविष्य की जानकारी के लिए फलित ज्योतिष के सिवा कोई दूसरी विद्या सहायक नहीं हो सकती और किसी व्यक्ति का यह बड़ा सौभाग्य है कि इसकी जानकारी उसे होती है , किन्तु किसी भी हालत में वह सर्वज्ञ नहीं हो सकता।
अभी तक फलित ज्योतिष विकासशील विद्या ही है , पूर्ण विकसित या विज्ञान का स्वरुप प्राप्त करने में अभी काफी विलम्ब है। ऐसी स्थिति में इसका सहारा लेकर वांछित निष्कर्ष प्राप्त कर लेना काफी कठिन कार्य है। बुिद्धमान ज्योतिषी को भी किसी निष्कर्ष तक पहुंचने में अपने अंत:करण की आवाज या अनुमान का आंिशक तौर पर सहारा लेना ही पड़ता है।

असाधारणत्व की रक्षा के लिए संदिग्ध आचरण


अक्सर यह देखा गया है कि इस अनुमान की जगह ज्योतिषी धूत्र्तता का सहारा लेते हैं। यह सत्य है कि जिस तरह के साधन का उपयोग किया जाता है , साध्य भी उसी अनुरुप हो जाता है। फलित ज्योतिष की बहुत सारी त्रुटियो के कारण इस समय किसी लगनशील समर्पित ज्योतिषी द्वारा भी की जानेवाली भविष्यवाणी भी अविकसित आधार के कारण त्रुटिपूर्ण ही प्राप्त होगी। इस परिस्थिति में फलित ज्योतिष के जानकार सिद्ध पुरुष , महामानव या भगवान के अवतार हो ही नहीं सकते। इस प्रकार का ढोंग भी अच्छा नहीं लगता। फलित ज्योतिष के अध्येता इन कमजोरियों से भली-भॉति परिचित हैं। वे अन्य विद्याओं के जानकार की तरह ही फलित ज्योतिष के जानकार हैं। ग्रहों के फलाफल की जानकारी कुछ सूत्रों , सिद्धांतों और गणना के आधार पर प्राप्त कर लेते हैं। उन सिद्धांतों , सूत्रों या गणना की पद्धति की जिसे जानकारी हो जाएगी , वह वह भी सतत् अभ्यास से वांछित फल को प्राप्त कर सकता है। इस परिप्रेक्ष्य में कोई ज्योतिषी अपने को भिन्न समझे या लोग उसे असाधारण समझने लगें तो आमलोगों की अपेक्षाएं नििश्चत तौर पर बलवती हो जाएंगी।


आमलोग ज्योतिषियों से अधिक अपेक्षा रखते हैं , इसीलिए इन्हें सिद्धपुरुष भी समझने लगते हैं। इधर ज्योतिषी भी इनके मनोभावों को समझकर अपनी वेश-भूषा , खान-पान , रहन-सहन , दिनचर्या , को असाधारण और भिन्न बनाकर लोगों की अपेक्षाओं में वृिद्ध ही करते हैं। किन्तु किसी की अधिक अपेक्षा करने से तथा उनकी मनोकामना की पूर्ति की दिशा में कोई मिथ्या आश्वासन देने के बीच एक बड़ी खाई बन जाती है। मजबूरन तथाकथित असाधारण व्यक्ति अपने असाधारणत्व की रक्षा के लिए तरह-तरह के झूठ-सच सबका सहारा लेते हैं और अंतत: उनका व्यक्तित्व संदिग्ध हो जाता है। किसी विज्ञान का विकास ऐसे महामानवों से कदापि नहीं हो सकता , जो बाबा या भगवान कहलाने में गर्व महसूस करते हों और फिर संदिग्ध आचरण को प्रस्तुत करते हों।

एक ज्योतिषी भी ग्रहों से संचालित है


मै कहना चाहता हूं कि ज्योतिषी भी एक मनुष्य है , वह भी ग्रहों से संचालित है । किसी एक ग्रह की वजह से ज्योतिष प्रकरण की उसे विशेष सकारात्मक जानकारी हो गयी है। हो सकता है , अन्य ग्रहों का भी सहयोग इस विशेष दिशा में प्राप्त हो गया हो। निस्संदेह ऐसी परिस्थितियों में उसे ज्योतिष शास्त्र का विशेष ज्ञान प्राप्त हो गया हो और इसके विकसित होने की संभावना बढ़ेगी , जिससे लोगो का दृिष्टकोण में परिवत्र्तन हा़ेगा , लोग सत्य के अधिक निकट होंगे। ग्रह फलाफल की सही जानकारी से लोग अधिक सुखी हो सकते हैं , किन्तु व्यक्ति या महामानव कोई भी हो , सभी के लिए अच्छे या बुरे ग्रहों का काल उपस्थित होता रहता है।


संसार का निर्माण ही धनात्मकता और ऋणात्मकता के संयोग से हुआ है। अत: किसी ज्योतिषी को भविष्यद्रष्टा या दूरदिशZता से संयुक्त एक मनुष्य से अधिक समझने की बात नहीं होनी चाहिए। संसार में इनकी भी बहुत सारी समस्याएं हो सकती हैं। इनके शरीर में किसी प्रकार की जटिलताएं आ जाएं तो इन्हें डॉक्टर के पास जाना पड़ सकता है। इनका भी अपना परिवार होता है , जिसके सदस्यो की देखभाल के लिए इनको धन की भी आवश्यकता होती है। इनके भी बंधु-बांधव होते हैं , जिनका ख्याल रखना पड़ता है। ये भी संपत्ति और स्थायित्व की अभिलाषा रखते हैं । इनकी भी संतानें होती हैं और वे इन्हें सुिशक्षित बनाकर अधिकारी बनाने का सपना देखते हैं। ये अपने अहं की रक्षा के लिए अपने प्रभाव को प्रदिशZत करने में तनिक भी संकोच नहीं करते हैं।


ज्योतिषी भी शरीरधारी हैं और इनके शरीर में सभी ग्रंथियॉ मौजूद हैं। स्वाभाविक है , इनकी सभी इंद्रियॉ सचेतन होंगी। अत: इनके लिए भी अच्छी गृहस्थी और विश्रामागार आवश्यक है। जनसामान्य की तरह ही काम , निद्रा , क्षुधा , नित्यकर्म में नियमितता इनके लिए आवश्यक हैं। समाज राज्य में अपने वर्चस्व , प्रभाव और प्रतिष्ठा को बनाए रखने की ये अभिलाषा रखते होंगे। मानवीय स्वभाव के अनुरुप ही यदि वे समाज को कुछ दे रहें होंगे , तो कुछ प्राप्ति की आशा भी मन में संजोए होंगे। इनके जीवन का भी कुछ अभीष्ट होगा , जिससे वे संयुक्त होना चाहते होंगे।

एक ज्योतिषी को भी उचित फी की आवश्यकता होती है


ये ब्रह्मवेत्ता हैं , ये भविष्यद्रष्टा हैं , ये महामानव हैं , यहॉ तक कि ये भगवान हैं , अत: सांसारिकता से इन्हें कोई मतलब नहीं है , जब लोग किसी के प्रति ऐसी बातें सोंचने लगतें हैं तो वह व्यक्ति भी जाने अनजाने वैसा ही आचरण लोगों के सम्मुख प्रस्तुत करता है। सन्यासी की वेश-भूषा धारण कर वह यह सिद्ध करने की चेष्टा करता है कि उसके शरीर की रक्षा और साज-सजावट के लिए कम से कम वस्त्रों की आवश्यकता है। दाढ़ी-मूंछ और जटा-जूट रखकर वह प्रकृति के अधिक निकट होने की ढोंग करता हैं। वह सादे रहन-सहन और उच्च विचारधारा के प्रदशZन का स्वांग रचता है , भगवान का एजेंट होने का दावा करता है , किन्तु बहुत सारी कहानियों में आपने पढ़ा होगा कि ऐसे लिबास के अंदर बहुत ही क्रूर अमानवीय व्यक्ति छुपा होता है। ऊपर से सन्यासी की वेश-भूषा धारण करनेवाला व्यक्ति लुटेरा या डकैत होता है । लोग उसे ठगना चाहते हैं , वह लोगों को ठगकर चला जाता है। यहॉ न्यूटन का तीसरा नियम लागू होता है । किसी ज्योतिषी को मामूली दक्षिणा देकर वे अपनी ड्यूटी पूरी कर लेते हैं , यह सोंचते हुए कि ज्योतिषी को भला धन की क्या आवश्यकता , पर ज्योतिषी को लगता है , इस ब्रह्मज्ञान के बदले इतनी मामूली सी दक्षिणा , जिससे परिवार का भरण-पोषण भी ढंग से नहीं किया जा सकता। बाबा द्वारा निकाले गए दूसरे रास्ते में आप कर्मकांड में इस प्रकार उलझा दिए जाते हैं , कि उनकी जेब बढ़िया से कट जाती है। बाबा अच्छी तरह जानते हैं कि इस दुनिया में कम से कम पढ़ा-लिखा व्यक्ति भी अच्छी कमाई कर लेता है , जब उन्हें पैसे-पैसे के लिए ही मुहंताज रहना पड़े , तो फिर इस ब्रह्मविद्या की जानकारी से क्या लाभ ?


डॉक्टर , इंजिनियर , वकील अपेक्षाकृत कम जानकारी के बाद भी अधिक से अधिक धन अर्जित करने में सक्षम हैं। यही नहीं , उनके सहयोगी क्वैक डॉक्टर , चैनमैन या मुंशी भी नाजायज कमाई करके प्रचुर धन अर्जित कर लेते हैं। ऐसी परिस्थिति में मामूली दक्षिणा में कोई ज्योतिषी इस विद्या में किस प्रकार पूर्ण समर्पित हो सकता है ? सरकारी व्यवस्था भी ऐसी कि डिग्री , डिप्लोमा प्राप्त करनेवाले व्यक्ति को सरकारी नौकरी मिल भी सकती है , पर फलित ज्योतिष के जानकार को नहीं। अत: ब्रह्मविद्या के जानकार दैवज्ञ बाबा अपनी आर्थिक स्थिति मजबूत करने में ठगी और धूत्र्तता का सहारा लेते हैं।


जो ज्योतिषी सामान्य व्यक्ति की तरह अपने घर में रहकर फलित ज्योतिष के अध्ययन में जीजान से जुटा हो , उसे मामूली व्यक्ति समझकर पेश आया जाता है। यदि उसकी आर्थिक स्थिति कमजोर है और उसके समक्ष स्थायित्व का संंकट है तो उसे सही पारिश्रमिक देकर भी उसे उबारा नहीं जाता है , सबको लगता है कि उनके पैसे का दुरुपयोग न हो जाए । एक ज्योतिषी तो बाबाजी होता है , उसे स्थायित्व की क्या आवश्यकता ? उसे तो आश्रम में होना चाहिए , जहॉ घर-गृहस्थी का कोई झमेला न हो । वे आश्रम में रहकर इस विद्या को अधिक विकसित कर पाएंगे , ऐसा सबका मनोभाव होता है । इस मनोभाव को बाबा अच्छी तरह समझने लगे हैं , इसलिए वे आश्रम में ही रहने लगे हैं।

भीड़ भाड़ से दूर स्थित होता है बाबा का आश्रम


हर आश्रम भीड़-भाड़ से दूर प्राकृतिक सुषमाओं से संयुक्त काफी विस्तृत जमीन पर होता है। एक समाजसेवी संस्था के रुप में इसके विकास का संकल्प होता है। इसके बहुत सारे विभाग होते हैं। इसके लिए बड़ी बड़ी इमारतों की जरुरत होती है। लोगों के सर्वांगीन विकास के साथ साथ बहुआयामी सुख-सुविधाओं का संकल्प होता है । यहॉ दैहिक , दैविक , भौतिक ताप किसी को नहीं होना चाहिए। नर-नारी का कोई भेद नहीं होता , सबके मनोवैज्ञानिक सुख और संतुिष्ट के लिए आश्रम उन्मुक्त , स्वच्छंद भोग विलास की पुष्पवाटिका होती है। सभी उच्च संगति का रसास्वादन करते हैं। ऐसे स्वर्गीय सुख को प्राप्त करने के लिए रमणीक स्थल का विकास किया जाता है , जिसके लिए पर्याप्त धन की आवश्यकता होती है। खास अवसरों पर यहॉ बड़े-बड़े उत्सव का आयोजन होता है। हजारो और लाखों की संख्या में भीड़ एकति्रत होती है। भक्त बहुत ही गदगद होकर बड़ी श्रद्धा के साथ क्षणभर में दान-दक्षिणा में लाखों करोड़ों एकति्रत कर देे हैं। आश्रमवाले बाबा विशेष उत्सव के अवसर पर साज-सजावट में जितना ही अधिक तामझाम प्रस्तुत करते हैं , जितने ही आधुनिक संसाधनों का उपयोग करते हैं , चंदे की रकम उसी के अनुपात में कई गुणा अधिक बढ़ते हुए क्रम में होती है। इस तरह भीड़-भाड़ , ताम-झाम और समृिद्ध ही उनके आध्याित्मक विकास और गुण-ज्ञान की गहराई का परिचायक बन जाती है , जबकि सच तो यह है कि प्रयोगशाला में तल्लीन खेजकत्र्ता के लिए भीड़-भाड़ , तामझाम या बड़े धन की आवश्यकता नहीं होती।


उपरोक्त व्याख्या का यह कदापि अर्थ नहीं कि मै बड़ी संस्था या आश्रम का पक्षधर नहीं हूं। विश्वकवि रविन्द्र नाथ टैगोर ने वोलपुर के आश्रम शांति-निकेतन को विश्वविद्यालय का स्वरुप प्रदान किया। श्रीराम शर्मा आचार्य ने मथुरा के अपने आश्रम को गायत्री मंत्र के माध्यम से जन-जागरण और आध्याित्मक विकास का उत्कृष्ट मंच बना दिया है। संसार के सभी विद्यालयों को चलाने के लिए बड़े पैमाने पर धन और संसाधन की आवश्यकता होती ही है , किन्तु संचालनकत्र्ता के गुण-अवगुण की परीक्षा करने में चूक हुई तो आश्रम वाले बाबा विराट स्तर पर व्याभिचार के साथ ही साथ राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय गिरोह के सरगना के रुप में कााम करना आरंभ कर देते हैं। किसी विश्वविद्यालय की पढ़ाई-लिखाई या प्रयोगशाला के प्रयोग में धनागम और खर्च का नियमित लेखा-जोखा होता है। आश्रम का लेखा-जोखा , हिसाब-किताब बाबा की इच्छा होती है। विश्वविद्यालय के उपकुलपति , प्राचार्य और हर विभाग के अध्यक्षों की शैक्षणिक और बौिद्धक योग्यता खुली किताब की तरह होती है, हो सकता है , यहॉ भी कुछ घपला हो , किन्तु आश्रम के मौनी बाबा और उनकी संपूर्ण कार्यवाही रहस्यात्मक होने के कारण संदेह के घेरे में होती है। वहॉ अच्छाइयों के साथ ही साथ बुराइयों के पनपने की पूरी संभावना होती है। अत: बहुत सारी विशेषताओं के बावजूद मानव को महामानव समझने की भूल न करें , किसी ज्योतिषी को बाबा , सृिष्टकत्र्ता , जन्मदाता या भगवान नहीं समझें। यदि आत्मा कहे तो गुरुजी या आचार्य कहना ही काफी होगा।

मामूली भूल भी विरक्ति का कारण बन जाती है


कहने का अभिप्राय यह है कि जिस बाबा में मानवीय गुणों का अत्यधिक विकास हो चुका है , जो अपने नैसगिZक गुणों के विकास के कारण लोक-मंगल की कामना और तद्नुरुप आचरण के लिए विख्यात है , जिन्हें ईश्वर के सही स्वरुप का बोध हो चुका है या जो ब्रह्मविद्या के जानकार हैं , वे भी शरीर धारण करने की वजह से संासारी है तथा संासारिक आवश्यताओं कोे महसूस करते हैं। अत: बाबा बनाकर उन्हें उनके अधिकारों से वंचित न करें , अन्यथा अपनी जरुरतों के लिए वे जो रास्ता अपनाएंगे , वह आपको नागवार लग सकता है।


किसी से अधिक अपेक्षाएं रखने से उसकी मामूली भूल भी विरक्ति का कारण बन सकती है। यही कारण है कि ज्योतिषी की एक भी भविष्यवाणी गलत होने पर लोग विक्षुब्ध हो जाते हैं , उनकी आस्था वहॉ पर घटने लगती है, उनका विद्रोहात्मक स्वरुप उभरने लगता है , जबकि सच तो यह है कि हर मनुष्य से भूल होती है , ज्योतिषी से भी भूल हो सकती है। अरबों रुपए खर्च करके वैज्ञानिक एक उपग्रह छोड़ता है ,कुछ ही देर बाद वह पृथ्वी पर गिर जाता है , उपग्रह के ध्वस्त होने से देश की बड़ी पूंजी नष्ट होती है , बहुत सारे वैज्ञानिकों का वषोZं का परिश्रम बर्वाद होता है, इस प्रकार के प्रयोग में कल्पना चावला जैसी मूल्यवान वैज्ञानिक मारी जाती हैं , किन्तु इसके लिए वैज्ञानिकों की योग्यता को चुनौती नहीं दी जा सकती। उनके दोषों को क्षमा कर दिया जाता हैं , यह सोंचते हुए कि वैज्ञानिक भगवान नहीं होते । क्या यही कम है कि अनंत आकाश में उड़ने की महत्वाकांक्षी योजना या प्रगतिशील और विकासोन्मुख विचारधारा उनके पास है ? प्राकृतिक नियमों के रहस्यों से पर्दा उठाकर उन शक्तियों का समुचित उपयोग मनुष्य की सुख-सुविधाओं के लिए कर रहें हैं। एक डॉक्टर चिकित्सा विज्ञान का विशेषज्ञ होता है । अपनी जानकारियों से मनुष्य या पशु के शरीर में उत्पन्न जटिलताओं को दूर करता है , किन्तु इलाज के क्रम में बहुत लोग मारे भी जाते हैं। इस तरह मनुष्य के पृथ्वी पर बने रहने के पीछे डॉक्टर का इलाज है , तो इलाज के दौरान मनुष्यों के मरने का अपयश भी उसके साथ है। लोगों की नजर में डाक्टर कसूरवार नहीं है , क्योंकि लोग उसे बाबा या भगवान के समकक्ष नहीं मानते। हर वकील मुकदमें की पैरवी करता है , सभी मुकदमा जीतने की इच्छा रखते हैं , लेकिन हर मुकदमें का निष्कषZ एक ही होता हैै , एक वकील जीतता है और दूसरा हारता है , किन्तु हारनेवाला मुविक्कल कभी भी किसी वकील पर दोषारोपण नहीं करता। वकील के हार-जीत की संभावनाएं 50 प्रतिशत होती है , किन्तु किसी ज्योतिषी की एक भी भविष्यवाणी गलत हो जाए तो उसपर चतुिर्दक आक्रमण होने लगता है ,क्योंकि बाबा की छोटी सी भूल को भी भक्तगण क्षमा नहीं कर पाते।

आखिर ज्योतिषी का सामाजिक स्वरूप क्या हो


एक बहुत ही गंभीर प्रश्न खड़ा होता है। क्या सचमुच ही बाबा के इसी रुप में लोग श्रद्धावनत होते हैं ? ज्योतिषी बाबा सरल वेश-भूषा में हो , उसे कम से कम संासारिक आश्यकताएं हों , उसे कम से कम पारिश्रमिक दिया जाए , उसे स्थायित्व प्राप्त न रहे , हर प्रकार की सुख-सुविधाओं से संयुक्त आवासीय सुविधा न हो , स्वयं सहनशील हो , उनकी संतान प्रगतिशील न हो। प्राचीनकाल में ऋषियों के साथ उनकी पित्नयॉ भी हुआ करती थी, परंतु आज के बाबा का जो स्वरुप लोगों के मस्तिष्क में उभरता है , वह यह कि उनके आध्याित्मक विकास के लिए उनका गृहस्थ आश्रम आवश्यक नहीं है। गृहस्थ होने मात्र से उनकी योग्यता को संदेह के घेरे में डाल दिया जाता है। आखिर जो विशुद्ध ज्योतिषी हैं , उनकी आवश्यकताओं की पूर्ति कैसे होती होगी , यह ज्योतिषी के समक्ष उपस्थित होनेवाले लोग भी नहीं बता पाएंगे। सामान्य लोग उन्हें भगवान का दर्जा देकर मुक्त हो जाते हैं , जबकि मूर्धन्य लोग ज्योतिषी से मिलने की बात को छिपाने की पूरी कोिशश करते हैं। बड़े राजनेताओं की किसी ज्योतिषी से मिलने की चर्चा-परिचर्चा अखबारों पति्रकाओं में इतनी हो जाती है कि यही उनके पराभव का कारण बन जाती है। वत्र्तमान समाज में एक ज्योतिषी बाबा है या अछूत , यह बात तो हमारी समझ से परे है , किन्तु इतनी बात तो स्पष्ट है कि प्रगतिशील विचारधारा का कोई व्यक्ति ज्योतिषी से मिला , तो वह दकियानूसी हो गया। भला बताइए तो सही , उस ज्योतिषी बाबा के प्रति जनता का कौन सा भाव अच्छा है , जिसकी प्रशंसा की जा सके। नििश्चत रुप से बाबा कहकर जनता उसे ठगने की चेष्टा करती है , इसलिए वह खुद ही ठगी जाती है। अच्छा होगा , किसी ज्योतिषी की बौिद्धक क्षमता ,अर्जित गुण-ज्ञान के समानांतर उन्हें अपना हितैषी समझते हुए उसी के अनुरुप उनके साथ मानवीय व्यवहार प्रदिशZत किया जाए।

वास्तव में ज्योतिषी एक समय विशेषज्ञ है


एक ज्योतिषी समय विशेषज्ञ होता है। उसका काम अच्छे या बुरे समय की सूचना देना है। किन्तु अच्छा या बुरा समय बहु-आयामी हो सकता है। यदि समय अच्छा हुआ , तो कोई जरुरी नहीं कि आप सभी प्रकार के काम कर लेंगे , किन्तु इतना अवश्य होगा कि आपका कुछ काम इस ढंग से बनेगा कि कि आपका मनोबल ऊंचाई की ओर जाएगा। इस तरह बुरा समय हो तो कोई आवश्यक नहीं कि हर काम बुरा ही हो , परंतु कुछ घटनाएं इस ढंग से घटित होंगी , जिससे मनोबल गिरा हुआ महसूस होगा। अच्छा समय है तो कोई भी व्यक्ति अधिक से अधिक मनोवांछित फल की प्राप्ति के संदर्भ में बिल्कुल मस्त होता है। उसे किसी की परवाह नहीं होती , वह एक क्षण के लिए भी कदापि नहीं सोंच पाता कि इसकी निरंतरता में कभी कमी भी हो सकती है। उस समय किसी ज्योतिषी से राय-परामशZ करना भी उसकी शान के खिलाफ होता है। हर प्रकार के अच्छे फल को अपना कर्मफल मानता है , किन्तु बुरे समय के उपस्थित होने से उसकी घबराहट काफी बढ़ जाती है। बुरे समय की तीव्रता को कैसे कम किया जाए इसकी चिन्ता प्राय: सभी व्यक्ति को होती है। इसी अतिरिक्त प्रत्याशा के साथ प्राय: पूरा समाज किसी ज्योतिषी की ओर आकर्षित होता है , किन्तु बुरे समय को अच्छे समय में परिवर्तित करने के असफल प्रयास के कारण ही कोई ज्योतिषी बदनाम हो जाता है और पूरा समाज उससे विकर्षित होने लगता है। भला-बुरा कहने में भी लोगों को कोई हिचकिचाहट नहीं होती और ज्योतिषी के दिव्य या ब्रह्मज्ञान का कोई महत्व नहीं रह जाता।


कैसी विडम्बना है , एक ज्योतिषी आधुनिक वेश-भूषा , खान-पान का हिमायती हो तो उसके ज्योतिषीय ज्ञान पर संशय किया जाता है , वही ज्योतिषी किसी साधु-सन्यासी की वेश-भूषा में हो उसका खान-पान सन्यासियों की तरह हो , तो उसे लकीर का फकीर दकियानूस कहा जाता है , उसकें चरित्र को संदेह की दृिष्ट से देखा जाता है। इस परिस्थिति में एक प्रश्न बहुत ही महत्वपूर्ण है , ज्योतिषी का सामाजिक स्वरुप तांति्रक , यांति्रक , पुजारी , बाबा , सन्यासी या वैज्ञानिक - किसके जैसा हो ? ज्योतिषी एक सामान्य मनुष्य है , जिसे भविष्य की जानकारियॉ होती है। भविष्य की जानकारी देनेवाला व्यक्ति भविष्य को बदल नहीं सकता। भूकम्प या समुद्री तूफान की सूचना देनेवाला भूकम्प या समुद्री तूफान को रोक नहीं सकता , सिर्फ पूर्व सूचना से इससे प्रभावित होनेवाले लोग सावधानियॉ बरत सकते हैं। दो व्यक्ति राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार हैं , दोनो की जन्मकुंडली देखकर किसी के राष्ट्रपति चुने जाने की भविष्यवाणी की जा सकती है , परंतु दोनो के भाग्य या मंजिल को कैसे बदला जा सकता है ?

सूर्यग्रहण की भविष्यवाणी कर उससे पड़नेवाले प्रभाव को समझाया जा सकता है , परंतु इसे रोका नहीं जा सकता । जानकारी होने के बाद लोग क्या कर सकते हैं , वे अपनी बनावट के अनुसार , अपनी मानसिकता के अनुसार निर्णय लेंगे। आपके क्षेत्र में तूफान या भूकम्प हो , तो क्या करना होगा , सूर्यग्रहण के समय सूर्य को देखें या नही ? या फिर देखे तो किस प्रकार ? लोग अपनी कमजोरियों , असफलताओं और अदूरदिशZता को किसी ज्योतषी पर नहीं थोपें , यही ज्योतिष के प्रति सच्ची श्रद्धा होगी । अपनी असफलताओं को छिपाने के लिए ग्रहों के जानकार के विवादास्पद स्वरुप को प्रस्तुत न करें।

2 टिप्‍पणियां:

Dr. Chandra Kumar Jain ने कहा…

अच्छा विश्लेषण किया आपने.
आपके नियमित लेखन से
ज्योतिष संबंधी भ्रमों का
निवारण हो सकता है...
जानकारी भी मिलेगी.
====================
डॉ.चन्द्रकुमार जैन

arun prakash ने कहा…

i read ur profile and your analysis about your research of 40 years, your hard work should be appreciated. i am shocked that in india where almost everyone talked about jyotish there is very few comments on your post